वेदांत फैशन आईपीओ विवरण: वेदांत फैशन आईपीओ: आप सभी को इस मुद्दे के बारे में जानने की जरूरत है


नई दिल्ली: वेदांत फैशन की 3,149 करोड़ रुपये की प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) शुक्रवार, 4 फरवरी को प्राथमिक बाजारों में आने के लिए तैयार है। आईपीओ कंपनी के मौजूदा शेयरधारकों और प्रमोटरों द्वारा बिक्री के लिए एक प्रस्ताव (ओएफएस) होगा। .

कंपनी ब्रांडों के विविध पोर्टफोलियो के साथ एक प्रमुख भारतीय उत्सव पहनने वाली कंपनी है। यहां प्रमुख बातें हैं जो आपको इस मुद्दे के बारे में जाननी चाहिए।

  1. कब होगा वेदांत फैशन्स का आईपीओ सदस्यता के लिए खुला है?
    वेदांत फैशन का आईपीओ सब्सक्रिप्शन के लिए शुक्रवार 4 फरवरी को खुलेगा।
  2. वेदांत फैशन का आईपीओ सब्सक्रिप्शन के लिए कब बंद होगा?
    वेदांत फैशन्स का आईपीओ मंगलवार, 8 फरवरी को सब्सक्रिप्शन के लिए बंद होगा।
  3. वेदांत फैशन्स का प्राइस बैंड क्या है?
    वेदांत फैशन के आईपीओ का प्राइस बैंड 824-866 रुपये प्रति शेयर तय किया गया है।
  4. वेदांत फैशन के आईपीओ का लॉट साइज क्या है?
    निवेशक 17 शेयरों पर या उसके गुणकों में दांव लगाकर वेदांत फैशन के आईपीओ को सब्सक्राइब कर सकते हैं। प्राइस बैंड की ऊपरी सीमा पर, आईपीओ के एक लॉट की कीमत 14,722 रुपये है। एक खुदरा बोलीदाता अधिकतम 14 लॉट के लिए बोली लगा सकता है।
  5. वेदांत फैशन्स का बिजनेस प्रोफाइल क्या है?
    वेदांत फैशन मान्यवर, मोहे, मेबाज़, मंथन और त्वमेव सहित ब्रांडों के विविध पोर्टफोलियो के साथ भारतीय उत्सव पहनने वाले बाजार को पूरा करता है।

    वेदांत फैशन ब्रांडेड इंडियन वेडिंग और सेलिब्रेशन वियर मार्केट में एक अखिल भारतीय उपस्थिति के साथ अग्रणी है, जो फ्रैंचाइज़ी के स्वामित्व वाले एक्सक्लूसिव ब्रांड आउटलेट्स (ईबीओ) के माध्यम से संचालित होता है।

  6. वेदांत फैशन्स का नेटवर्क कितना बड़ा है?
    सितंबर 2021 तक, कंपनी के पास 546 ईबीओ के साथ एक व्यापक खुदरा नेटवर्क था, जिसमें वैश्विक स्तर पर 58 शॉप-इन-शॉप शामिल हैं – संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और यूएई में 11 विदेशी ईबीओ, जिसमें एक बड़ा भारतीय प्रवासी है।

    भारत में, कंपनी का ईबीओ नेटवर्क सितंबर 2021 तक 212 शहरों और कस्बों में फैला हुआ है और 1.2 मिलियन वर्ग फुट के खुदरा पदचिह्न को कवर करता है।

  7. वेदांत फैशन के आईपीओ का इश्यू साइज क्या है?
    यह इश्यू पूरी तरह से प्रमोटरों और मौजूदा शेयरधारकों द्वारा ऊपरी मूल्य बैंड पर कुल 3,149.13 करोड़ रुपये के अंकित मूल्य के 36,364,838 इक्विटी शेयरों की बिक्री (ओएफएस) है।
  8. वेदांत फैशन के आईपीओ की बिक्री के प्रस्ताव में भाग लेने वाले निवेशक कौन हैं?
    ओएफएस में राइन होल्डिंग्स लिमिटेड द्वारा 1.74 करोड़ शेयरों की बिक्री शामिल है; केदारा कैपिटल अल्टरनेटिव इन्वेस्टमेंट फंड-केदारा कैपिटल एआईएफ I द्वारा 7.23 लाख शेयर तक और रवि मोदी फैमिली ट्रस्ट द्वारा 1.81 करोड़ शेयर तक।

    कंपनी के प्रमोटर रवि मोदी, शिल्पी मोदी और रवि मोदी फैमिली ट्रस्ट हैं। इश्यू पूरी तरह से ओएफएस है, जिसका मतलब है कि कंपनी को इश्यू से कोई शुद्ध आय नहीं मिलेगी।

  9. वेदांत फैशन आईपीओ में खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित कोटा क्या है?
    वेदांत फैशन के आईपीओ में खुदरा निवेशकों के लिए कोटा शुद्ध पेशकश का 35 फीसदी तय किया गया है। क्यूआईबी कोटा 50 फीसदी जबकि एनआईआई के लिए कोटा 15 फीसदी तय किया गया है।
  10. क्या वेदांत फैशन के आईपीओ में कंपनी के कर्मचारियों के लिए कोई कोटा आरक्षित है?
    नहीं, कंपनी के कर्मचारियों के लिए कोई कोटा आरक्षित नहीं है।
  11. वेदांत फैशन के आईपीओ के लिए आवंटन के आधार को कब अंतिम रूप दिया जाएगा?
    आवंटन के आधार को 11 फरवरी तक अंतिम रूप दिए जाने की संभावना है और रिफंड की शुरुआत 14 फरवरी तक होने की संभावना है। इस बीच, डीमैट खाते में शेयरों के क्रेडिट 15 फरवरी तक होने की संभावना है।
  12. वेदांत फैशन्स का आईपीओ किस तारीख को लिस्ट होगा?
    वेदांत फैशन 16 फरवरी (बुधवार) को बाजार में उतरने के लिए तैयार है।
  13. हम वेदांत फैशन के आईपीओ आवंटन की स्थिति की जांच कहां कर सकते हैं?
    जो लोग इस इश्यू के लिए बोली लगाते हैं, वे आईपीओ के रजिस्ट्रार केफिन टेक्नोलॉजीज इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के ऑनलाइन पोर्टल पर सदस्यता की स्थिति की जांच कर सकते हैं।
  14. वेदांत फैशन के आईपीओ के प्रमुख बुक मैनेजर कौन हैं?
    एक्सिस कैपिटल, एडलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, आईआईएफएल सिक्योरिटीज और कोटक महिंद्रा कैपिटल इश्यू के बुक रनिंग लीड मैनेजर हैं।
  15. पिछले साल वेदांत फैशन्स का प्रदर्शन कैसा रहा?
    सितंबर 2021 को समाप्त छह महीने की अवधि में इसने 98.41 करोड़ रुपये का लाभ कमाया, जबकि पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 17.64 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था। इसी अवधि के दौरान परिचालन से राजस्व 71.7 करोड़ रुपये से बढ़कर 359.84 करोड़ रुपये हो गया।

    कंपनी ने वित्त वर्ष 2020-21 में 132.9 करोड़ रुपये का लाभ दर्ज किया, जो पिछले वर्ष 236.63 करोड़ रुपये था। महामारी ने बुरी तरह प्रभावित किया और कंपनी के बॉटमलाइन को प्रभावित किया। समीक्षाधीन अवधि के दौरान कंपनी का राजस्व 915.55 करोड़ रुपये से घटकर 564.82 करोड़ रुपये रह गया।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.